Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

भारत में बोलि जाने वाली भाषाएं विलुप्ति होने के कगार पर रिपोर्ट

भाषाएं विलुप्ति
भारत में बोलि जाने वाली भाषाएं विलुप्ति होने के कगार पर रिपोर्ट

गृही मंत्री ने रपोर्ट जरी की है जिस में उन्होंने भारत के 42 भाषा और बोली बिलुप्त होने की कगार पर है l रिपोर्ट के अनुसार इन 42 भाषाओं एवं बोलियों का इस्तेमाल करने वाले कुछ ही हज़ार लोग हैं जिसके चलते इनका यह हश्र हुआ हैl संयुक्त राष्ट्र ने भी ऐसी 42 भारतीय भाषाओं या बोलियों की सूची तैयार की हैl यह सभी खतरे में हैं और धीरे-धीरे विलुप्त होने की ओर बढ़ रही हैंl



1. बिलुप्त होने की कगार पर अंडमान और निकोबार द्वीप समूह की 11 भाषाए है:- जरावा, लामोंगजी, ग्रेट अंडमानीज, लुरो, मियोत, पु, सनेन्यो, सेंतिलीज, शोम्पेन, ओंगे और तकाहनयिलांग हैl

2. मणिपुर की सात भाषाए बिलुप्त होने की कगार पर है:- एमोल, अक्का, कोइरेन, लामगैंग, तराओ, पुरुम और लैंगरोंग भाषाएl

3. हिमाचल प्रदेश की चार भाषाएं बिलुप्त होने की कगार पर है:- बघाती, सिरमौदी, हंदुरी और पंगवाली भाषाए l

4. ओडिशा की तीन भाषाए बिलुप्त होने की कगार पर है:- मंडा, परजी और पेंगो भाषाए l

5. आंध्र प्रदेश की दो भाषाए बिलुप्त होने की कगार पर है:- गडाबा और नैकी भाषाए l

6. कर्नाटक की दो भाषाए बिलुप्त होने की कगार पर है:- कोरागा और कुरुबा भाषाए l

7. असम की दो भाषा बिलुप्त होने की कगार पर है:- नोरा और ताई रोंग भाषा l

8. उत्तराखंड की एक भाषा “बंगानी” विलुप्त होने की कगार पर हैं l

9. झारखंड की एक भाषा “बिरहोर” विलुप्त होने की कगार पर हैं l

10. महाराष्ट्र की एक भाषा “निहाली” विलुप्त होने की कगार पर हैं l

11. मेघालय की एक भाषा “रुगा” विलुप्त होने की कगार पर हैं l

12. पश्चिम बंगाल की एक भाषा “टोटो” भी विलुप्त होने की कगार पर हैं l

13. तमिलनाडु की दो भाषाए विलुप्तप्राय हो चुकी हैं:- कोटा और टोडा भाषाएं l

भारतीय भाषाओं के केंद्रीय संस्थान मैसूर स्थित देश की खतरे में पड़ी भाषाओं के संरक्षण और अस्तित्व की रक्षा करने के लिए केंद्रीय योजनाओं के तहत कई उपाय कर रहा हैl कार्यक्रमों के तहत कई संदेश दे रहे हैं, भाषा को बचाने के लिए जैसे, एक भाषा को दूसरे भाषा में वर्ड को बदलना डिक्शनरी तैयार करना, लोककथाओं द्वारा लोगो को भाषा का संदेश देना और भी बहुत कुछ कदम उठा रही है, केंद्रीय संस्थान भाषा को बचाने के लिएl यह सभी वह भाषाएं हैं जिन्हें दस हजार से भी कम लोग बोलते हैंl


इसे भी देखें:- शिशु मृत्यु दर का रिपोर्ट जरी किया यूनिसेफ ! रिपोर्ट
इसे भी देखें:- बाल अधिकारों में इन देशों का हालात ख़राब रिपोर्ट
इसे भी देखें:- घरेलू हिंसा का शिकार हो रहें हैं बच्चे देखें इस रिपोर्ट में

इसे भी देखें:-ऑस्कर अवॉर्ड सब से ज्यदा इस फिल्मों को मिल चूका हैl
इसे भी देखें:- गांधी जी का जीवन परिचय की महत्वपूर्ण घटना

इसे भी देखें:- पूर्व मध्यकालीन भारत का इतिहास ! उत्तर भारत महत्वपूर्ण क्वेश्चन नोट्स
इसे भी देखें:- भारतीय राजव्यवस्था CH-6 संविधान के भाग से पुछे जाने वाले महत्वपूर्ण सवाल

इसे भी देखें:- रेलवे के सभी एग्जाम में हर साल पुछे जाने वाला महत्वपूर्ण क्वेश्चन + PDF File

इसे भी देखें:- Telangana Postal Circle Post Office Government Jobs तेलंगाना पोस्टल डाक सर्कल

इसे शेयर जरूर करें

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *