Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

सोशल मीडिया इस्तेमाल करना कितना खतरनाक है आप के दिमाग के लिए

सोशल मीडिया इस्तेमाल करना कितना खतरनाक है आप के दिमाग के लिए

विश्व की लगभग आधी आबादी तक इंटरनेट पहुंच चुका है और इनमें से कम से कम दो-तिहाई लोग सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते हैंl 5 से 10 फीसदी इंटरनेट यूजर्स ने माना है कि वे चाहकर भी सोशल मीडिया पर बिताया जाने वाला अपना समय कम नहीं कर पातेl इनके दिमाग के स्कैन से मस्तिष्क के उस हिस्से में गड़बड़ दिखती है, जहां ड्रग्स लेने वालों के दिमाग में दिखती हैl

हमारी भावनाओं, एकाग्रता और निर्णय को नियंत्रित करने वाले दिमाग के हिस्से पर काफी बुरा असर पड़ता हैl सोशल मीडिया इस्तेमाल करते समय लोगों को एक छद्म खुशी का भी एहसास होता है क्योंकि उस समय दिमाग को बिना ज्यादा मेहनत किए “इनाम” जैसे सिग्नल मिल रहे होते हैंl यही कारण है कि दिमाग बार बार और ज्यादा ऐसे सिग्नल चाहता है जिसके चलते आप बार बार सोशल मीडिया पर पहुंचते हैंl यही लत हैl



क्या आपको भी ऐसा लगता है कि दफ्तर में काम के साथ साथ जब आप किसी दोस्त से चैटिंग कर लेते हैं या कोई वीडियो देख कर खुश हो लेते हैं, तो आप कोई जबर्दस्त काम करते हैंl शायद आप इसे मल्टीटास्किंग समझते हों लेकिन असल में ऐसा करते रहने से दिमाग “ध्यान भटकाने वाली” चीजों को अलग से पहचानने की क्षमता खोने लगता है और लगातार मिल रही सूचना को दिमाग की स्मृति में ठीक से बैठा नहीं पाताl

मोबाइल फोन बैग में या जेब में रखा हो और आपको बार बार लग रहा हो कि शायद फोन बजा या वाइब्रेट हुआl अगर आपके साथ भी अक्सर ऐसा होता है तो जान लें कि इसे “फैंटम वाइब्रेशन सिंड्रोम” कहते हैं और यह वाकई एक समस्या हैl जब दिमाग में एक तरह खुजली होती है तो वह उसे शरीर को महसूस होने वाली वाइब्रेशन समझता हैl ऐसा लगता है कि तकनीक हमारे तंत्रिका तंत्र से खेलने लगी हैl

सोशल मीडिया पर अपनी सबसे शानदार, घूमने की या मशहूर लोगों के साथ ली गई तस्वीरें लगानाl जो मन में आया उसे शेयर कर देना और एक दिन में कई कई बार स्टेटस अपडेट करना इस बात का सबूत है कि आपको अपने जीवन को सार्थक समझने के लिए सोशल मीडिया पर लोगों की प्रतिक्रिया की दरकार हैl इसका मतलब है कि आपके दिमाग में खुशी वाले हॉर्मोन डोपामीन का स्राव दूसरों पर निर्भर है वरना आपको अवसाद हो जाएl



दिमाग के वे हिस्से जो प्रेरित होने, प्यार महसूस करने या चरम सुख पाने पर उद्दीपित होते हैं, उनके लिए अकेला सोशल मीडिया ही काफी हैl अगर आपको लगे कि आपके पोस्ट को देखने और पढ़ने वाले कई लोग हैं तो यह अनुभूति और बढ़ जाती हैl इसका पता दिमाग फेसबुक पोस्ट को मिलने वाली “लाइक्स” और ट्विटर पर “फॉलोअर्स” की बड़ी संख्या से लगाता हैl

इसका एक हैरान करने वाला फायदा भी हैl डेटिंग पर की गई कुछ स्टडीज दिखाती है कि पहले सोशल मी़डिया पर मिलने वाले युगल जोड़ों का रोमांस ज्यादा सफल रहता हैl वे एक दूसरे को कहीं अधिक खास समझते हैं और ज्यादा पसंद करते हैंl इसका कारण शायद ये हो कि सोशल मीडिया की आभासी दुनिया में अपने पार्टनर के बारे में कल्पना की असीम संभावनाएं होती हैंl

कैसा लगा आप को आप हमें कमेंट्स के माद्यम से बताये और शेयर करें:-

इसे भी देखें:- चींटी के बारें में महत्पूर्ण बातें – रोचक जानकारी
इसे भी देखें:- इंसान की शारीर से जुरी महत्पूर्ण बातें – रोचक जानकारी
इसे भी देखें:- भारत में याद दीलाती है भारत की ये सभी मशहुर चीजें
इसे भी देखें:- तीर्थ यात्रा करने के लिए फ्री में पैसा सरकार देति हैl
इसे भी देखें:- भारत के प्रसिद्ध नेता जेल के खीचरी खाने वाले ये सभी हैं

इसे शेयर जरूर करें

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *