UPSC Electrical Engineering Syllabus Optional Paper 1 & 2

UPSC Electrical Engineering Syllabus Optional Paper 1&2

UPSC Electrical Engineering Syllabus

UPSC Mains Exam Syllabus Optional Paper

दोस्तों यह UPSC Electrical Engineering Syllabus का सम्पूर्ण टॉपिक के साथ दीया गया हैl यूपीएससी एग्जाम का तैयारी करने वाले स्टूडेंट्स इसको एक बार अच्छी तरीके से पढ़ेंl

 

वैद्युत इंजीनियरी सिलेबस UPSC Electrical Engineering Syllabus

वैद्युत इंजीनियरी ऐच्छिक विषय-1,मार्क्स 250,समय 3 घंटा

वैद्युत इंजीनियरी ऐच्छिक विषय-2.मार्क्स 250,समय 3 घंटा

 

UPSC Electrical Engineering Syllabus Optional Paper 1

  1. परिपथ-सिद्धांत : विद्युत अवयव, जाल लेखचित्रा, केल्विन धरा नियम, केल्विन वोल्टता नियम, परिपथ विश्लेषण विधियां, नोडीय विश्लेषण; पाश विश्लेषण; आधरभूत जाल प्रमेय तथा अनुप्रयोग; क्षणिका विश्लेषण; RL,RC एवं RLC परिपथ; ज्वायक्रीय स्थायी अवस्था विश्लेषण; अनुनादी परिपथ; युग्मित परिपथ; संतुलित त्रिकला परिपथ । द्विकारक जाल ।

 

  1. संकेत एवं तंत्र : सतत काल एवं विवक्त-काल संकेतों एवं तंत्रा का निरूपण; खिक काल निश्चर तंत्र, संवलन आवेग, अनुक्रिया संवलन एवं अवकल अंतर समीकरणों पर आधरित रैखिक काल निश्चर तंत्रों का समय क्षेत्र विश्लेषण । फूरिए रूपांतर, लेप्लास रूपांतर, जैड-रूपांतर, अंतरण फलन संकेतों का प्रतिचयन एवं उनकी प्रतिप्राप्ति । विवक्त कालतंत्रों के द्वारा तुल्य रूप संकेतों का DFT,FFT संसाधन ।

 

  1. विद्युत चुम्बकीय सिद्धांत : मैक्सवेल समकरण, परिबद्ध माध्यम में तरंग संचरण । परिसीमा अवस्थाएं, समतल तरंगों का परावर्तन एवं अपवर्तन । संचरण लाइनें; प्रगामी एवं अप्रगामी तरंगे, प्रति बाध प्रतितुलन, स्मिथ चार्ट ।

 

  1. तुल्य एवं इलेक्ट्रानिकी : अभिलक्षण एवं डायोड का तुल्य परिपथ ;वृहत एवं लघु संकेत,द्विसंधि ट्रांजिस्टर, संधि क्षेत्र प्रभाव ट्रांजिस्टर एवं धतु आक्साइड सामिचालक क्षेत्रा प्रभाव ट्रांजिस्टर । डायोड परिपथ: कर्तन, ग्रामी, दिष्टकारी । अभिनतिकरण एवं अभिनति स्थायित्व । क्षेत्रा प्रभाव ट्रांजिस्टर प्रवर्धक । धारा दर्पण, प्रवर्धक: एकल एवं बहुचरणी, अवकल, संक्रियात्मक, पुनर्निवेश एवं शक्ति । प्रबंधकों का विश्लेषण, प्रबंधकों की आवृत्ति अनुक्रिया । संक्रियात्मक प्रबंधक परिपथ । निरयंदक, ज्वायक्रीय दोलित्र: दोलन के लिए कसौटी, एकल ट्रांजिस्टी और संक्रियात्मक प्रवर्धक विन्यास । फलन जनित्र एवं तरंग परिपथ । रैखिक एवं स्विचन विद्युत प्रदाय ।

 

  1. अंकीय इलेक्ट्रानिकी : बूलीय बीजावली, बूलीय फलन का न्यूनतमीकरण तर्कद्वार, अंकीय समाकलित परिपथ कुल (DTL,TTL, ECL, MOS, CMOS) संयुक्त परिपथ अंकगणितीय परिपथ, कोड परिवर्तक, मल्टीप्लेक्सर एवं विकोड़ित्र । अनुक्रमिक परिपथ, चटखनी एवं थपथप, गणित्र एवं विस्थापन पंजीयक । तुलनित्र, कालनियामक बहुकंपित्र । प्रतिदर्श एवं धरण परिपथ, तुल्यरूप अंकीय परिवर्तन (ADC) एवं अंकीय तुल्य रूप परिवर्तक (DAC) । सामिचालक स्मृतियां । प्रक्रमित युक्तियों का प्रयोग करते हुए तर्क कार्यान्वयन (ROM, PLA, FPGA)

 

  1. उर्जा रूपांतरण : वैद्युत यांत्रिकी उर्जा रूपांतरण के सिद्धांत: घूर्णित मशीनों में बल आधूर्ण एवं विद्युत चुंबकीय बल । दि.ध. मशीनें: अभिलक्षण एवं निस्पादन विश्लेषण, मोटरों का प्रारम्भन एवं गति नियंत्राण । परिणामित्र: प्रचालन एवं विश्लेषण के सिद्धांत ; विनियमन दक्षता; त्रिकला परिणामित्र: त्रिकला प्रेरण मशीनें एवं तुल्यकालिक मशीनें; अभिलक्षण एवं निष्पादन विश्लेषण गति नियंत्रण ।

 

  1. शक्ति इलेक्ट्रानिकी एवं विद्युत चालन : सामिचालक शक्ति युक्तियां: डायोड, ट्रांजिस्टर, थाइरिस्टर, ट्रायक,GTO एवं धतु आक्साइड सामिचालक क्षेत्र प्रभाव ट्रांजिस्टर स्थैतिक अभिलक्षण एवं प्रचालन के सिद्धांत, ट्रिगरिंग परिपथ, कला नियंत्रण दिष्टकारी, सेतु परिवर्तक: पूर्ण नियंत्रित एवं अर्द्धनियंत्रित थाइरिस्टर चापर एवं प्रतीयकों के सिद्धांत, DC-DC परिवर्तक, स्विच मोड़ इन्वर्टर, dc एवं ac मोटर चालन के गतिनियंत्रण की आधरभूत संकल्पना, विचरणीय चाल चालन के अनुप्रयोग ।

 

  1. तुल्यरूप संचार : यादृच्छिक वर: संतत, विविक्त प्रायकिता, प्रायिकता फलन । सांख्यिकीय औसत; प्रयिकता निदर्श; यादृच्छिक संकेत एवं रव; सम, रव, रवतुल्य बैंड चैड़ाई, रव सहित संकेत प्रेषण, रव संकेत अनुपात, रैखिक CW माडुलन: आयाम-माडुलन: द्विसाइड बैंड, द्विसाइड बैंड-एकल चैनल (DSB-SC) एवं एकल बैंड । माडुलन एवं विमाडुलन; कला और आवृत्ति माडुलन ; कला माडुलन एवं आवृति माडुलन संकेत, संकीर्ण बैंड आवृति माडुलन, आवृत्ति माडुलन कला माडुलन के लिए जनन एवं संसूचन, विष्प्रबलन, पूर्व प्रबलन । संवाहक तरंग माडुलन (CWM) तंत्र; परासंस्करण अभिग्राही, आयाम माडुलन अभिग्राही, संचार अभिग्राही, आवृत्ति माडुलन अभिग्राही, कला पाशित लूप, एकल साइड बैंड अभिग्राही, आयाम माडुलन एवं आवृत्ति माडुलन अभिग्राही के लिए सिगनल-रव अनुपात गणन ।

 

UPSC Electrical Engineering Syllabus Optional Paper 2

 

  1. नियंत्रण तंत्र : नियंत्राण तंत्रा के तत्व, खंड आरेख निरूपण; खुला पाश एवं बंदपाश तंत्र, पुनर्निवेश के सिद्धांत एवं अनुप्रयोग । नियंत्रण तंत्र अवयव । रेखिक काल निश्चर तंत्र: काल प्रक्षेत्र एवं रूपांतर प्रक्षेत्र विश्लेषण । स्थायित्व: राउथ हरविज कसौटी, मूल बिंदुपथ, बोर्ड आलेख एवं पोलर आलेख, नाइक्विएस्ट कसौटी, अग्रपश्चता प्रतिकारक का अभिकल्पलन । सामनुपालिक PI,PID नियंत्रक, नियंत्रण तंत्रों का अवस्था-विचरणीय निरूपण एवं विश्लेषण ।

 

  1. माइक्रोप्रोसेसर एवं माइक्रोकंप्यूटर: PC संघटन, CPU अनुदेश सेट, रजिस्टर सेट, टाइमिंग आरेख,प्रोग्रामन, अंतरानयन, स्मृति, अरापृष्ठान, IO अंतरापृष्ठन, प्रोग्रामनीय परिधीय युक्तियां ।

 

  1. मापन एवं मापयंत्रण: त्राुटि विश्लेषण: धरा, वोल्टता, शक्ति, उर्जा, शक्ति गुणक,प्रतिरोध, प्रेरकत्व, धरिता एवं आवृत्ति का मापन, सेतु मापन । सिगनल अनुकूल परिपथ, इलेक्ट्राॅनिक मापन यंत्र; बहुमापी, कैथोड किरण आसिलोस्कोप, अंकीय बोल्टगामी, आवृति गणित, Qमापी, स्पेक्ट्रम विश्लेषक, विरूपण मापी ट्रांसड्यूसर, ताप वैद्युत युग्म, थर्मिस्टर, रेखीय परिवर्तनीय अवकल ट्रांसड्यूसर, विकृति प्रभावी, दाब विद्युत क्रिस्टल ।

 

  1. शक्तितंत्र: विश्लेषण एवं नियंत्रण: सिरोपरि संचरण लाइनों तथा केबलों का स्थायी दशा निष्पादन,सक्रिय एवं प्रतिघाती शक्ति अंतरण एवं वितरण के सिद्धांत, प्रति इकाई राशियां, बस प्रवेश्यता एवं प्रतिबाध आव्यूह, लोड प्रवाह; बोल्टता नियंत्रक एवं शक्ति गंणक संशोधन; आर्थिक प्रचालन; सममित घटक; सममित एवं असममित दोष का विश्लेषण । तंत्र स्थायित्व की अवधरणाः स्विंग वक्र एवं समक्षेत्र कसौटी । स्थैतिक बोल्ट एंपियर प्रतिघाती तंत्र । उच्च वोल्टता दिष्टधरा संचरण की मूलभूत अवधरणाएं ।

 

  1. शक्तितंत्र रक्षण: अतिधरा, अवकल एवं दूरी रक्षण के सिद्धांत । ठोस अवस्था रिले की अवधरणा । परिपथ वियोजक । अभिकलित्रा सहायता प्राप्त रक्षण; परिचय, लाइन, बस, जनित्रा, परिणामित्रा रक्षण, संख्यात्मक रिले एवं रक्षण के लिए अंकीय संकेत रक्षण (DSP) का अनुप्रयोग ।

 

  1. अंकीय संचार: स्पंद कोड माडुलन, अवकल स्पंद कोड माॅडुलन, डेल्टा माडुलन अंकीय विमाडुलन एवं विमाॅडुलन योजनाएं: आयाम, कला एवं अवृत्ति कुंजीयन योजनाएं । त्राुटि नियंत्रण कूटकरण: त्राुटिसंसूचन एवं संसोधन रैखिक खंड कोड, संवलन कोड । सूचना माप एवं ड्डोत कूट करण । आंकड़ा जाल, 7-स्तरीय वास्तुकला ।

 

फ्री में स्टडी मटेरियल प्राप्त करने के लिए टेलीग्राम ग्रुप से हमारे साथ जुड़ेंl यहाँ यूपीएससी और पीसीएस का सम्पूर्ण तैयारी फ्री में करवाया जाता हैl 

Telegram:- https://t.me/ShitalRCSGYAN

 

UPSC Electrical Engineering Syllabus को अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और व्हाट्सएप में शेयर करें। क्या पता आपके एक शेयर से किसी स्टूडेंट्स का हेल्प हो जाए।

 

इसे भी देखें:-

सम्पूर्ण यूपीएससी का सिलेबस देखें:- UPSC Syllabus In Hindi

Download UPSC Mains GS 1, 2, 3, 4, Paper Study Material:- UPSC Mains GS Full Study Material In Hindi

 

NCERT Books for UPSC PDF In Hindi

इसे शेयर जरूर करें